बिना पुल के ही जिन्दगी और मौत के बीच करते है खड्ड को पार स्कूली छात्र

0
314

(दिनेश कुमार) करसोग : जिला मण्डी के उपमंडल करसोग के दूरदराज गांव मशोग के ग्रामीणों को आज भी पुल न होने के कारण खड को पार करके घरो तक पहुंचना पड़ता है। थाची गांव के पास ज्यादा परेशानी स्कूली छात्रों को होती है। जूतों को हाथ मे लिए ही खड्ड को पार करना पड़ता है इसके अलावा और कोई दूसरा सादन नही है। नोनिहालो को शिक्षा ग्रहण करने के लिए अभिभावकों को अपने घर के सारे काम छोड़ के खड़ को पार कराना पड़ता है जलस्तर ज्यादा होने से कई बार बच्चों को स्कूल जाने से वंचित रहना पड़ रहा है।

चुने हुए जनप्रतिनिधियों के पास जनता की सुध लेने की कोई फुर्सत ही नही है।आजादी के 73 साल बाद भी शिक्षा ग्रहण करने पहुंच रहे छात्रों सहित क्षेत्र के लोगो के लिए पांगणा फेगल खड्ड को पल के अभाव में पार करना किसी बड़ी चुनोती से कम नही है।ग्रामीणों ने शासन व प्रशासन से गुहार की है कि समय रहते इस खड्ड पर पैदल चलने योग्य पुल का निर्माण प्राथमिकता के आधार पर किया जाए।