सेहत से खिलवाड़ : यूरिया मिलाकर बेच रहे दूध, सैंपल फेल, कीड़े भी मिले

0
828
selling milk mixed with urea

लोगों की सेहत (Health) से खिलवाड़ किया जा रहा है. नकली दूध (Fake Milk) पिलाया जा रहा है. मामाला हिमाचल प्रदेश (Hamirpur) के हमीरपुर (Hamirpur) और सोलन जिले का है. हैरानी की बात है कि इस लोकल दूध में यूरिया मिलाने की बात सामने आई है. जांच में इस बात का खुलासा हुआ है.

जानकारी के अनुसार, फूड एंड सेफ्टी विभाग ने हमीरपुर शहर में खुले तौर पर बिक रहे दूध की जांच (Testing) की तो पता चला कि इसकी क्वालिटी (Quality) काफी खराब है.

ऐसे होता है खेल
दरअसल, इलाके में कुछ दुकानदार नामी कंपनियों का पैकेट वाला दूध खरीदने के बाद इसमें मिलावट कर रहे हैं. फिर इस दूध को खुले में बेच देते हैं. कोट गांव में ऐसा मामला सामने आया है. कमाई के चक्कर में डेयरी संचालक और दूध बेचने वाले लोग इसमें यूरिया खाद मिला रहे हैं. हमीरपुर शहर में गत दो दिन में दूध के पांच सैंपल (Sample) फेल हो चुके हैं.

जांचे जा रहे हैं सैंपल

खाद्य एवं सुरक्षा विभाग (Food and Safety) की मोबाइल वैन ने हमीरपुर में दूध, पानी और जूस के सैंपल जांचे जा रहे हैं. हमीरपुर शहर में पानी के सैंपल तो सही पाए गए, लेकिन, दूध में पानी की मिलावट ज्यादा पाई गई है. सैंपल लिए जाने के चलते हमीरपुर शहर में दुकानदारों में हडंकप मचा हुआ है.

दूध में यूरिया मिला- फूड एंड सेफ्टी विभाग

असिस्टेंट कमिश्नर फूड एंड सेफ्टी विभाग अरुण चौहान ने लोगों से मोबाइल टेस्टिंग वैन का ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाने का आग्रह किया है, ताकि उन्हें पता चल सके कि लोग कैसा दूध और पानी पी रहे हैं. उन्होंने बताया कि जांच टीम में शामिल फूड सेफ्टी ऑफिसर मधुबाला तथा खाद्य विश्लेषक अक्षय कुमार रिपोर्ट दे रहे हैं. यह अभियान जिला में एक सप्ताह तक चलेगा. उन्होंने बताया कि दो सैंपल दूध के फेल हुए है और दूध में यूरिया मिला हुआ पाया गया है.

सोलन में दूध में निकले कीड़े

सोलन में दूध और प्रोटीन पाउडर की गुणवत्ता भी खराब पाई गई है. स्वास्थ्य विभाग के सहायक आयुक्त एलडी ठाकुर ने बताया कि विभाग को काफी दिनों से दूध और प्रोटीन पाउडर को लेकर काफी शिकायतें मिल रही थी. उन्होंने मौके पर सैम्पल भरे थे, जिस में पाया गया कि दूध में कीड़े हैं और कई कम्पनियों के प्रोटीन पाउडर और विटामिन के कैप्सूल मिस ब्रांडेड है, जिनके लीगल सैम्पल ले लिए गए है. सैंपल भरकर सीटीएल कंडाघाट भेजे जा चुके हैं. रिपोर्ट आने पर आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.