कारगिल विजय दिवस : घर पर शादी की थी तैयारी, और उसने बांध लिया था सिर पर कफन

0
1381

आपको पता होगा आज कारगिल विजय दिवस, चलिए आपको आज एक सच्ची कहानी बताते है
बात यह है की सेना में अफसर बेटे शहीद कैप्टन अमोल कालिया की शादी को लेकर घर में तैयारियां चल रही थीं। रिश्ता तय हो चुका था, बस शादी की तारीख तय करनी बाकी थी। पापा जून के अंत में आ रहा हूं, आप शादी की तारीख तय कर लेना। यहां सब ठीक है, बस दूसरी तरफ से घुसपैठ चल रही है, उसे जल्द निपटा लेंगे।

ये अंतिम शब्द कारगिल अमर शहीद कैप्टन अमोल कालिया के साथ पिता सतपाल कालिया की बातचीत में थे। कारगिल से एक जून को अमोल कालिया का लिखा खत नौ जून को घर पहुंचा था। इसी दिन देश के इस जांबाज ने सिर पर कफन बांध कर दुश्मनों से लोहा लेते शहादत का जाम पी लिया।

इस दौरान अमोल कालिया का रिश्ता तय हो गया था। कारगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तानी सेना के दांत खट्टे करते हुए चौकी नंबर 5203 पर तिरंगा लहराने के बाद शहीद हुए कैप्टन कालिया पर आज भी उनके परिजन और प्रदेशवासी नाज करते हैं।

कैप्टन अमोल कालिया का जन्म 26 फरवरी 1978 को नंगल में हुआ था और जमा दो तक शिक्षा ग्रहण करने के बाद 1991 में उनका चयन एनडीए के लिए हुआ। कालिया मूल रूप से हिमाचल के चिंतपूर्णी के रहने वाले थे।

1995 में आईएमए कमीशन प्राप्त करने के बाद सेना की 12 जैकलाई में प्रभार संभाला और उनकी ज्यादातर ड्यूटी सियाचिन ग्लेश्यिर, कारगिल, द्रास व लेह आदि कठिन क्षेत्रों में रही।

Cab in Amritsar
Book Cab in Service is a biggest travel service provider in Amritsar. Book Cab in Amritsar also provide taxi services in Amritsar, Cab in Amritsar, car rental services in Amritsar, local taxi service in Amritsar, Amritsar cabs, Taxi rental in Amritsar, Amritsar car rental service & Cab hire in amritsar, taxi booking in Amritsar, cab booking in Amritsar for sight seeing and out station journey. 

घुसपैठियों को मौत की नींद सुलाया
जब पाकिस्तानी सेना की ओर से कारगिल में घुसपैठ की गई तो उस दौरान दुश्मन सेना के साथ लोहा लेते दर्जनों पाकिस्तानी सेना के घुसपैठियों को मौत की नींद सुलाने व चौकी नंबर 5203 पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद 9 जून 1999 को दुश्मन सेना की गोली लगने से शहीद हुए।

आपको बता दे की कैप्टन अमोल कालिया को मरणोपरांत वीर चक्र से सम्मानित किया गया। कैप्टन अमोल कालिया के माता-पिता नंगल की शिवालिक एवेन्यू में रहते हैं जबकि उनका दूसरा बेटा भारतीय वायु सेना में भर्ती है।

कैप्टन अमोल कालिया के पिता कहते हैं कि उन्हें Himachal और Punjab सरकार से आज कोई शिकवा नहीं। लेकिन हिमाचल की सरहद मैहतपुर में शहीद बेटे की याद में बने प्रवेश द्वारा की खस्ता हालत को सुधारा जाना चाहिए।

अगर इसमें किसी तरह के खर्च की आवश्यकता है तो वह उसे भी देने के लिए तैयार हैं। आपको बता दे की Punjab सरकार की ओर से आज नंगल-ऊना मुख्य मार्ग पर अमर शहीद कैप्टन अमोल कालिया की याद में खूबसूरत पार्क बना है, जिसमें कैप्टन अमोल कालिया की प्रतिमा भी लगाई गई है।