बिना पात्रता प्रमोट कर दिया HRTC कर्मचारी, निगम प्रबंधन ने जारी किया नोटिस; जानिए पूरा मामला

1076
HRTC employees Promoted without eligibility

अभी चंबा डिपो में हेराफेरी का मामला सुलझा ही नहीं कि हिमाचल पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) का एक नया कारनामा सामने आ गया। निगम ने पात्रता की शर्तें देखे बिना एक फोरमैन को वक्र्स मैनेजर के पद पर पदोन्नति दे दी। लॉकडाउन के दौरान मई में पदोन्नति दे दी और अब उसे प्रबंधन ने कारण बताओ नोटिस थमा दिया। यह नोटिस प्रबंध निदेशक ने भेजा है। इससे संबंधित कर्मचारी पर डिमोट होने का खतरा है। चार जून को पालमपुर के क्षेत्रीय प्रबंधक (आरएम) ने सूचित किया था कि यह कर्मचारी 2011 की बजाय 2016 में फोरमैन बना था।

अगली पदोन्नति के लिए छह वर्ष का कार्यकाल पूरा नहीं करता है। बावजूद इसके उसे पदोन्नत किया गया। मामला देखने के बाद प्रबंधन ने उसे नोटिस जारी किया है। हिमाचल परिवहन मजदूर संघ के दखल के बाद इस पर कारवाई करने की प्रक्रिया आरंभ की गई है। परिवहन मजदूर संघ के अध्यक्ष शंकर सिंह ठाकुर ने गलत तरीके से दी गई पदोन्नति में कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

जा‍‍निए, क्‍या कहते हैं आरएम पालमपुर

जिस कर्मचारी को समय से पहले पदोन्नति दी गई थी, वह अभी यहीं तैनात है। उसकी डीपीसी मुख्यालय में की गई थी। मैंने रिपोर्ट में क्या लिखा, इसके बारे में मौखिक तौर पर कुछ नहीं बता पाउंगा। प्रबंधन द्वारा नोटिस के बारे में अभी मुझे जानकारी नहीं है। -उत्तम चंद, क्षेत्रीय प्रबंधक, एचआरटीसी, पालमपुर।