हिमाचल में बड़े भूकंप की आशंका जताई गयी , सरकार ने किया अलर्ट

0
3214

आपको बता दे की हिमाचल प्रदेश में बड़े भूकंप के आने की आशंका जताई गयी है। मिली जानकारी के अनुसार विभिन्न शोधों में यह बात सामने आने के बाद सरकार ने अलर्ट जारी किया है।

आपको बता दे भूकंप के लिहाज से पूरा हिमाचल अति संवेदनशील और संवेदनशील जोन में आता है। कांगड़ा जिला जोन 5 जबकि शिमला जोन 4 में आता है।

एक सप्ताह में 3 बार भूकंप आने के बाद सरकार के प्रवक्ता ने प्रेस बयान जारी कर बताया कि राज्य में जनवरी 2019 से अब तक 4.3 या इससे कम तीव्रता के 14 झटके महसूस किए जा चुके हैं।

चंबा जिले में 6, किन्नौर में 6, मंडी में 2, शिमला और कांगड़ा में 1-1बार भूकंप के झटके दर्ज किए गए हैं। इनमें से अधिकांश झटके 20 किलोमीटर की अधिकतम गहराई वाले थे। उन्होंने बताया कि भूकंप कुछ क्षणों में ही बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचा सकता है और बड़ी संख्या में लोग बेघर हो सकते हैं।

Book Cab in Service is a biggest travel service provider in Amritsar. Book Cab in Amritsar also provide taxi services in Amritsar, Cab in Amritsar, car rental services in Amritsar, local taxi service in Amritsar for sight seeing and out station journey

बही सरकार लोगों में प्राकृतिक आपदाओं से निपटने के लिए जागरूकता पैदा कर रही है और समय-समय पर चेतावनी भी जारी कर रही है। खासकर आम लोगों को भूकंप रोधी आवास बनाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

प्रदेश के जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति में सोमवार सुबह 9 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 4.3 आंकी गई। झटके महसूस होते ही लोग घरों से बाहर निकल आए। जिले के कई क्षेत्रों में इस कारण कुछ देर के लिए अफरातफरी मची रही। प्रदेश में बीते एक सप्ताह के दौरान सोमवार को तीसरी बार भूकंप आया। इससे पहले 25 जुलाई को चंबा और 23 को किन्नौर में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।

5 सेंटीमीटर प्रति वर्ष की रफ्तार से इंडियन प्लेट यूरेशियन प्लेट की ओर खिसक रही है। इससे जो तनाव पैदा होता है, वह भूकंप के रूप में सामने आता है। इन सारी गतिविधियों पर उत्तराखंड का वाडिया इंस्टीट्यूट स्टडी करता है। धर्मशाला में भी नड्डी में इस संस्थान अध्ययन केंद्र बनाया गया है।