हिमाचल : मां का सपना रह गया अधूरा, पैरा कमांडो बालकृष्ण ने 24 साल की उम्र में पाई शहादत

0
2695
dream is incomplete Para commando Balakrishna attains martyrdom at age 24

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू की खराहल घाटी के रोहित गांव निवासी 24 वर्षीय पैरा कमांडो बालकृष्ण जम्मू-कश्मीर केरन सेक्टर में सीमा पर आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गया. इसकी सूचना मिलने के बाद कुल्लू में शोक की लहर है. शहीद पैरा कमांडो बालकृष्ण के गांव पुईड में मातम पसरा है. बालकृष्ण की अभी शादी नहीं हुई थी. ऐसे में उनकी माता का बेटी की शादी को लेकर सपना अधूरा रह गया.

जानकारी के मुताबिक, उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा जिला के केरन सेक्टर में आंतकवादी सीमा के अंदर घुसपैठ कर रहे थे. इसी दौरान जब सेना की टुकड़ी और आंतकवादी के बीच मुठभेड़ हुई, उसमें पैरा कमांडो बालकृष्ण गंभीर रूप से घायल हो गए थे. आर्मी अस्पताल में घायल बालकृष्ण का इलाज चल रहा था. सोमवार सुबह घायल बालकृष्ण ने अंतिम सांस ली.

शहीद का भाई भी सेना में
इसके बाद सेना के अधिकारियों ने शहीद बालकृष्ण के परिजनों को सूचना दी. शहीद बालकृष्ण के परिवार में मातम पसरा है. बालकृष्ण के दादा अनूप राम और दादी बेग़मो देवी और पिता महेंद्र, माता इंद्रा देवी, बहन सोनिया गमगीन हैं. शहीद बालकृष्ण के भाई केसर सिंह भी पंजाब रेजीमेंट में तैनात हैं. ऐसे में भाई के शहीद होने की खबर के बाद केसर सिंह शोक संतप्त हैं. एसडीएम कुल्लू अनुराग चंद्र शर्मा ने शहीद बालकृष्ण के परिजनों को ढाढस बंधाया है.

हिमाचल भाजपा के उपाध्यक्ष रामसिंह, सदर विधायक सुंदर सिंह, कैबिनेट मंत्री गोबिंद सिंह ठाकुर, पूर्व मंत्री सत्यप्रकाश ठाकुर, जिला परिषद अध्यक्षा रोहिणी चौधरी, बंजार और आनी के विधायक सुरेंद्र, किशोरी लाल सागर सहित अन्य पंचायत प्रधिनिधियों ने शोक जताया है.

वीडियो न्यूज़ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें >>YOUTUBE<<