अस्पताल के बाथरूम में महिला की हुई डिलीवरी, टॉयलेट सीट में फंसने से नवजात शिशु की मौत

    2521
    Delivery of woman in hospital bathroom

    डॉक्टर की लापरवाही के कारण एक नवजात शिशु की मौत हो गई। दरअसल, एक महिला की अस्पताल के बाथरूम में ही डिलीवरी हो गई और कमोड पर बच्चे के गिरने से उसकी मौत हो गई। बच्चे के पिता ने इसका जिम्मेदार महिला डॉक्टर को ठहराया है। उन्होंने पुलिस प्रशासन से डाक्टर के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।

    जानकारी देते हुए अश्वनी कुमार निवासी गांव बहरंगा, तलवाड़ा ने बताया कि उसकी पत्नी प्रवीण कुमारी गर्भवती थीं। 16 अक्टूबर को डॉक्टर सविता राणा ने प्रवीण को बुलाकर एक बोतल खून चढ़ाकर भर्ती कर लिया। 17 अक्टूबर को जब उसे लेबर पेन उठा तो रात 11 बजे लेबर रूम में एडमिट करने के लिए कहा गया लेकिन उन्होंने ध्यान नहीं दिया। 18 अक्टूबर को डॉक्टर ने उसे एक गोली दे दी। जब पीड़िता बाथरूम गई तो उसकी डिलीवरी हो गई औरबच्चा शौचालय की सीट पर गिरकर फंस गया। जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। अपनी लापरवाही को छुपाने के लिए महिला डाक्टर ने कोरे कागज पर उनके अंगूठे लगवा लिए और कहा कि 15 दिन पहले गर्भ में ही उनके बच्चे की मौत हो चुकी थी।

    डिलीवरी वाले दिन मैं ड्यूटी पर नहीं थी
    डॉक्टर सविता राणा का कहना था कि उन पर लगाए सभी आरोप गलत हैं। 15 अक्टूबर को खून चढ़ाया था, लेकिन डिलीवरी वाले दिन वह ड्यूटी पर उपस्थित नहीं थी। जिस डॉक्टर ने इलाज किया है, उसका दावा है कि बच्चे की मौत 15 दिन पहले खून की कमी से हो चुकी थी।