अंतिम संस्कार से पहले मुर्दा बोला- अभी मैं जिंदा हूं , डॉक्टरों ने जिंदा मरीज को बताया मृत

    5186
    Dead body said before the funeral

    जरा सोचिए कि अगर डॉक्टरों ने किसी को मृत घोषित कर दिया हो और मृतक के परिवार वाले उसके अंतिम संस्कार की तैयारी कर रहे हो लेकिन अचानक मृतक बोलने लगे तो इसे क्या कहा जायेगा। ऐसा ही मामला प्रदेश भर में बेहतर इलाज के लिए माना जाने वाले अस्पताल में सामने आया

    मृत युवक चंद्रशेखर सेहरिया जो लॉ का छात्र है उसके किडनी में समस्या थी। उसके रिश्तेदार मनीष पंवार ने बताया कि शुक्रवार रात लगभग 12 बजे मरीज को मेदांता लेकर पहुंचे थे। जांच के बाद उसे वेंटिलेटर पर रखा और डॉक्टरों ने परिजनों से मिलने भी नहीं दिया। रविवार सुबह उसे मृत घोषित कर दिया। लेकिन जब बच्चे का अंतिम संस्कार के लिए घर ले जाया जा रहा था तो एंबुलेस में उसके शरीर में हरकत हुई और उसने अपनी जुबान से अपनी मां को पुकारा

    इसके बाद आनन फानन में मरीज को दोबारा हॉस्पिटल लाया गया लेकिन डॉक्टरों कि गैर मौजूदगी के चलते इलाज नहीं हो पाया और मरीज को बॉम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया। जहां इलाज में देरी होने के कारण मरीज ने दम तोड़ दिया। वहीं घटना को लेकर मरीज के परिवार वालों में खासा आक्रोश देखने को मिला परिवार के सदस्यों ने लापरवाही का आरोप लगाते हुए। हॉस्पिटल को सील करने कि मांग कि है