भयंकर तस्वीरें : बादल फटने से सड़कें हुईं गायब, पुल बहे, भारी तबाही

2034
cloudburst in kullu himachal pradesh

आपको बता दे की किन्नौर के बाद शुक्रवार सुबह कुल्लू की मणिकर्ण घाटी में बादल फटने से भारी तबाही हुई सामने आयी है। आपको बता दे की सुबह करीब पांच बजे जैसे ही बादल फटने से नाले में बाढ़ आई तो लोगों में अफरातफरी मच गई।
लोग जान बचाने के लिए साथ लगती पहाड़ी पर जा पहुंचे। जब 6 घंटे बाद सुबह 11 बजे नाले का प्रवाह कम हुआ तो लोगों ने चैन की सांस ली।

आपको बता दें कि लास्ट साल 12 अगस्त को भी इसी गांव में बादल फटा था। बीते दिन किन्नौर के पूह खंड के कानम गांव में बादल फटने से बागवानों को करोड़ों नुकसान हुआ है।

मिली सुचना के अनुसार बादल फटने से 2 पुल और सैकड़ों बीघा कृषि भूमि बह गई। घरों व सेब बगीचों में मलबा घुस गया है। पेयजल पाइप लाइन बहने से गांव में जलसंकट हो गया है।

बड़ी खबर आपको बता दे की सतलुज का जलस्तर बढ़ने से नाथपा-झाकड़ी और सिल्ट होने से एशिया (Asia) की सबसे बड़ी भूमिगत 15 मेगावाट विद्युत परियोजना, 412 रामपुर परियोजना 18 घंटे बंद रही।

आपको बता दे की कुल्लू में दिल्ली-चंडीगढ़ के लिए हवाई उड़ानें नहीं हो पाईं। गगल एयरपोर्ट पर आने वाली 4 उड़ानों में से एयर इंडिया की सुबह की उड़ान नहीं हुई।