फर्जी हाजिरी के मामले में रिकवर किए इतने रुपये

0
872
case of fake attendance

पालमपुर : पंचायत वाहे दा पट में मनरेगा के तहत फर्जी हाजिरी मामले में 7350 रुपये की रिकवरी की गई है । पंचायत में फर्जी हाजरियों का वीडियो वायरल होने का मामला अमर उजाला ने प्रमुखता से उठाया था ।

खंड विकास अधिकारी ने जांच कर जिन लोगों की फर्जी हाजिरी लगाकर उनके खाते में पैसे डाले थे , उनसे यह धनराशि रिकवर कर ली है । हालांकि , फर्जी हाजिरी मामले में पंचायत के पूर्व प्रधान रस्मपाल विजिलेंस में जाने की तैयारी कर रहे हैं । उनका आरोप है कि पंचायत में फर्जी हाजिरी मामले में हजारों नहीं , बल्कि लाखों रुपये का गोलमाल हुआ है ।

आरटीआई के तहत जो तथ्य जुटाए गए हैं , उससे पंचायत में फी हाजिरी लगाकर लाखों रुपये डकारने की आशंका है । मामले में तथ्यों के साथ वह विजिलेंस में शिकायत करेंगे । अभी तक जो रिकवरी की गई है , वह मात्र एक ही काम की है । जबकि अन्य कामों में भी फर्जी हाजिरी लगाई गई है । उधर , खंड विकास अधिकारी भेडू महादेव सिकंदर ने बताया कि फर्जी हाजिरी मामले में पंचायत का रिकॉर्ड खंगाला गया था । इसमें 7350 रुपये रिकवर किए गए हैं ।

PMO से भी शिकायत की गयी है

आदरणीय महोदय, मैं वाहे दा पट पंचायत का निवासी हूं, ब्लॉक भेदू महादेव पालमपुर निर्वाचन क्षेत्र जयसिंहपुर जिला काँगड़ा एचपी। मेरे पंचायत में एक बड़ा घोटाला है मनरेगा और नियोजन कार्यों में बहुत घोटाला हुआ है। कुछ लोग जो पंचायत प्रधान और उपप्रधान के निकट हैं । उन लोगों ने कभी मनरेगा में भाग नहीं लिया है, लेकिन वहाँ नाम हैं और पैसे उनके खातों से प्राप्त हो गए हैं. क्योंकि हम मनरेगा वेबसाइट में जानकारी देख पा रहे हैं। मस्टर रोल में इन लोगों की फ्रॉड उपस्थिति है।

सभी सूचनाओं की एक शिकायत BDO और सतर्कता से की गयी है. लेकिन हम इस बात पर ध्यान दे रहे हैं कि राजनीतिक स्तर पर इन सब से बचे रहने के लिए एक मदद दी जाएगी, लेकिन हम आपसे न्याय चाहते हैं कि ठग लोगों के खिलाफ उचित जांच हो, जैसा कि वे हैं इतने घोटाले करना। पूरी जानकारी के साथ एक उचित शिकायत विभाग को प्रदान की गई है, लेकिन एक उचित जांच की आवश्यकता है, ताकि कार्रवाई के दौरान हमारी पंचायत में चल रही गलत चीजों को रोका जा सके। आपको धन्यवाद हम अपने प्रधानमंत्री श्री से उम्मीद करते हैं। नरेंद्र मोदी इतना ही क्यों हम आपको इस आवेदक को भेज रहे हैं हमें आप पर पूरा भरोसा है कि आप मेरे आवेदन को न्याय देंगे क्योंकि गरीबों की मदद के लिए मनरेगा है, लेकिन हमारी पंचायत इसमें घोटाले कर रही है और फ्रॉड नामों को डालकर वे घोटाले कर रहे हैं