कैप्टन अंकित का 4 दिन बाद भी नहीं लगा सुराग, #मार्कोस #कमांडो की टीम जुटी है सर्च ऑपरेशन में

400
Captain Ankit Gupta
Captain Ankit Gupta

सनसिटी जोधपुर की कायलाना झील (Kayalana Lake) में लापता हुये कैप्टन अंकित गुप्ता (Captain Ankit Gupta) तलाश में अब तक कोई सफलता हाथ नहीं लग पाई है. गत 4 दिनों से चल रहे सर्च ऑपरेशन में एयरफोर्स और सेना पुलिस के साथ नेवी के मार्कोस कमांडो (Marcos Commando) भी कैप्टन की तलाश में जुटे हुये हैं, लेकिन अभी तक उनका पता नहीं लग पाया है. कैप्टन की तलाश कर रहे सेना के जवान बिना निवाला खाये कायलाना झील में उनकी तलाश में जुटे हैं.

10 पैरा स्पेशल फोर्स के कैप्टन अंकित गुप्ता का शव चार दिन बाद भी कायलाना झील से बाहर नहीं निकाला जा सका है. पिछले 4 दिनों से एयरफोर्स और सेना पुलिस के बाद नेवी के मार्कोस कमांडो भी कैप्टन अंकित गुप्ता के सर्च ऑपरेशन में जुटे हैं. करीब डेढ़ सौ जवानों की टीम दिन रात कैप्टन की तलाश में सर्च ऑपरेशन चला रही है. खास बात यह भी सामने आ रही है कि सर्च ऑपरेशन में लगे जवान बिना थके उनकी तलाश में जुटे हैं. वे सिर्फ चाय और बिस्किट से पेट भरकर कैप्टन अंकित गुप्ता की तलाश में झील का कोना-कोना छान रहे हैं.

हेलोकास्टिंग ड्रील के दौरान झील में छलांग लगाई थी कैप्टन अंकित गुप्ता ने
जोधपुर शहर की प्यास बुझाने वाली कायलाना झील में हेलोकास्टिंग ड्रील के दौरान कैप्टन अंकित गुप्ता ने हेलीकॉप्टर से अपने कमांडो के साथ छलांग लगाई थी. पांच साथियों के साथ छलांग लगाने के बाद 4 कमांडो तो कायलाना झील से बाहर निकल गए लेकिन कैप्टन अंकित गुप्ता झील के अंदर ही फंस गए. उनका अभी तक कोई सुराग नहीं लग पाया है.

नेवी के मार्कोस कमांडो भी उतरे सर्च ऑपरेशन में

3 दिनों के सर्च ऑपरेशन के बाद जब कैप्टन अंकित गुप्ता का पता नहीं चला तो दिल्ली मुख्यालय ने रविवार को नेवी के 8 मार्कोस कमांडो को सर्च ऑपरेशन चलाने के लिए जोधपुर भेजे. मार्कोस कंमाडो समुद्र में विषम परिस्थितियों में ऑपरेशन करने में प्रशिक्षित होते हैं. लिहाजा वे भी कायलाना झील में कैप्टन अंकित गुप्ता की तलाश में जुटे हैं. लेकिन पिछले 18 घंटों की मेहनत के बाद मार्कोस कमांडो को भी अभी तक सफलता हाथ नहीं मिल पाई है. आज 20 मार्कोस कंमाडो और जोधपुर पहुंचे हैं.