Delhi Fire : भैया बच्चों का ध्यान रखना- मौत से पहले की ये बात सुनकर भर आएगा मन

0
217
Brother take care of the children

दिल्ली के अनाज मंडी (Anaj Mandi) अग्निकांड का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस ऑडियो में आग की लपटों के बीच घिरे एक युवक को अपने दोस्त से बात करते हुए सुना जा सकता है. सूत्रों के मुताबिक, संकट की घड़ी में अपने दोस्त को कॉल करने वाले युवक का नाम मुशर्रफ है. आग और धुएं के बीच उसे बचने की जब कोई उम्मीद नहीं दिखी तो उसने अपने एक दोस्त को अग्निकांड के बारे में बताया. करीब साढ़े तीन मिनट के इस कॉल में मुशर्रफ ने अपने दोस्त से कहा, ‘मेरे बचने की कोई उम्मीद नहीं है. मैं आग और धुएं के बीच घिर गया हूं. मेरे दोस्त मेरे परिवार और बच्चों को ध्यान रखना. अभी इस घटना के बारे में किसी को नहीं बताना.’ इसके बाद मुशर्रफ की आवाज हमेशा के लिए खामोश हो गई.

जानकारी के मुताबिक, मुशर्रफ के दोस्त का नाम मोनू है. उसे जब आग के बीच घिरने के बाद बचने की कोई उम्मीद नहीं दिखी तो उसने मोनू को कॉल किया और घटनाक्रम के बारे में बताया. वायरल ऑडियो में कॉल रिसीव होते ही मुशर्रफ ने मोनू से कहा, ‘मोनू भैया आज मैं खत्म होने वाला हूं. बिल्डिंग में आग लग गई है. आ जइयो करोलबाग. टाइम कम है और भागने का कोई रास्ता नहीं है. खत्म हुआ भैया मैं तो…घर का ध्यान रखना. अब तो सांस भी नहीं ली जा रही.’

आग कैसे लगी?
इसके बाद मोनू ने पूछा कि आग कैसे लगी? इस पर मुशर्रफ ने कहा, ‘पता नहीं कैसे आग लग गई. कई सारे लोग बिलख रहे हैं. अब कुछ नहीं हो सकता है. घर का ध्यान रखना.’ फिर मोनू ने कहा कि मुशर्रफ तुम फायर ब्रिगेड को फोन करो. इस पर मुशर्रफ ने कहा कि कुछ नहीं हो रहा अब.

‘पानी वाले को कॉल कर दो’
इतना सुनने के बाद मोनू ने कहा कि पानी वाले को कॉल कर दो. जवाब में मुशर्रफ ने कहा कि कुछ नहीं हो सकता है. मेरे घर का ध्यान रखना. किसी को एकदम (अचानक) से मत बताना. पहले बड़ों को बताना. मेरे परिवार को लेने पहुंच जाना. तुझे छोड़कर और किसी पर भरोसा नहीं है, क्योंकि अब सांस भी नहीं ली जा रही है. इसके बाद कुछ सेकेंड के लिए आवाज थम गई.