21 साल की युवती को सांप ने काटा, डॉक्टर के मृत बताने के बाद श्मशान में हो गई जिंदा

1776
becomes alive in cremation after doctor told her dead

कहते हैं ना कि मरा हुआ इंसान फिर जिंदा नहीं हो सकता लेकिन राजस्थान (Rajasthan) के भरतपुर में इस हकीकत को झुठलाने वाला मामला सामने आया है. यहां के रुदावल कस्बे (Rudawal) की रहने वाली 21 वर्षीय युवती श्वेता को सर्पदंश (Snake Bite) के बाद भरतपुर (Bharatpur) के आरबीएम अस्पताल में मृत घोषित (Declared Dead) कर दिया गया था. लेकिन जब उसके अंतिम संस्कार की तैयारी चल रही थी तभी श्मशान घाट में उसकी सांसें लौट आईं. इस घटना के बारे में पहले तो किसी ने यकीन नहीं किया लेकिन जब श्वेता को लेकर उसके परिजन वापस लौटे तो घर पर लोगों की भीड़ लग गई. वहीं इससे जुड़ी एक और अजीबोगरीब घटना घटी, जब श्वेता को मृत घोषित करने के बाद श्मशान घाट ले जाया गया तो घर पर एक नाग-नागिन का जोड़ा नाचता देखा गया. महिलाओं ने इसकी सूचना श्मशान घाट पहुंचे परिजनों को भी दी. इसके बाद जब उन्होंने श्वेता की नब्ज टटोली तो उसे जिंदा पाया गया.

श्मशान घाट में नब्ज मिली तो गोठियाओं से करवाया उपचार

दैनिक भास्कर के अनुसार परिजन श्वेता की सांसें लौटने के बाद उसे श्मशान घाट से वापस घर लेकर लौटे. यहां देवताओं के गोठियाओं (सर्पदंश का कथित उपचार करने वाले) से उपचार करवाया जा रहा है. फिलहाल उसकी हालत में सुधार बताया जा रहा है.

जानकारी के अनुसार श्मशान घाट में जिस समय श्वेता के अंतिम संस्कार की तैयारी चल रही थी उसी वक्त उसके घर पर एक नाग-नागिन का जोड़ा नजर आया. कथितरूप से यह जोड़ा घर में नाच रहा था और उसे देखकर घर की महिलाओं ने श्मशान घाट गए परिजनों को फोन कर इसकी जानकारी दी थी. इसी दौरान चमत्कारिक रूप से मृत घोषित कर दी गई श्वेता की सांसें लौट आई.

कस्बे में आग की तरह फैली खबर

सांप काटने की यह घटना गुरुवार सुबह रुदावल कस्बे की शीतला कॉलोनी में हुई. श्वेता को घर पर सांप ने काटा था. उसे फौरन भरतपुर के सरकारी अस्पताल ले जाया गया. जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. इसके बाद श्मशान में उसकी सांसें लौट आने की खबर पूरे कस्बे में आग की तरह फैल गई. इस अजीबोगरीब वाकये के बाद उनके घर पर लोगों की भीड़ लग गई.